उच्च रक्तचाप और कॉमरेडिडिटी के लिए 5 पूरक जिनके बारे में सभी को पता होना चाहिए

उच्च रक्तचाप के लिए पूरक और वैकल्पिक चिकित्सा: 5 पूरक हर किसी को पता होना चाहिए

आपका हृदय धमनियों के माध्यम से शरीर में रक्त भेजता है। शरीर की धमनियों में बहने वाले रक्त के लिए एक निश्चित दबाव आवश्यक होता है। जब किसी कारणवश यह दबाव बढ़ जाता है तो धमनियां अधिक प्रभावित होती हैं। बढ़े हुए दबाव के कारण धमनियों में रक्त के प्रवाह को बनाए रखने के लिए हृदय को सामान्य से अधिक काम करना पड़ता है।

रक्तचाप और उसका महत्व

उच्च रक्तचाप से कई अन्य समस्याएं भी हो सकती हैं जैसे खराब रक्त परिसंचरण, सिरदर्द, झुनझुनी सनसनी, मांसपेशियों में दर्द, दिल का दौरा और स्ट्रोक। यदि रक्तचाप को नियंत्रित नहीं किया जाता है तो यह अन्य स्वास्थ्य जटिलताओं को भी जन्म दे सकता है।

उच्च रक्तचाप के कारण यदि उच्च रक्तचाप है, तो इसका कारण यह है कि रक्त के प्रवाह में कमी के कारण शरीर को असामान्य तरीके से काम करने के लिए मजबूर किया जा रहा है। उच्च रक्तचाप के कुछ सामान्य कारण हैं जिनमें खराब आहार, गतिहीन जीवन शैली, तनाव, अनुचित नींद और खराब जीवनशैली की आदतें जैसे धूम्रपान, खराब पोषण, उच्च कोलेस्ट्रॉल या शराब पीना शामिल हैं।ऐसे कई कारक हैं जो उच्च रक्तचाप को प्रभावित करते हैं।

उच्च रक्तचाप के कारण क्या हैं?

अधिक वजन होना, धूम्रपान, शराब पीना, शारीरिक परिश्रम, उच्च तनाव, शारीरिक गतिविधि की कमी और कम वजन होना उच्च रक्तचाप के कारण हो सकते हैं। यदि आप पर्याप्त व्यायाम नहीं करते हैं तो आपको उच्च रक्तचाप हो सकता है।

निम्न रक्तचाप को हाइपोटेंशन कहा जाता है। उच्च रक्तचाप के कुछ मामलों में आनुवंशिक कारण भी हो सकते हैं। उच्च रक्तचाप के लिए सबसे आम जोखिम कारक हैं: आयु आनुवंशिकी शारीरिक गतिविधियां पर्यावरण (धूम्रपान) आहार आपकी उम्र उच्च रक्तचाप के विकास के आपके जोखिम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

आप जितने छोटे होंगे, आपका जोखिम उतना ही कम होगा। उनके मध्य 30 के दशक में बहुत कम लोग हैं जो उच्च रक्तचाप से ग्रस्त हैं। उच्च रक्तचाप का निदान ब्लड प्रेशर कफ का उपयोग करके या ब्लड प्रेशर मॉनिटर से रक्तचाप को मापा जा सकता है।

उच्च रक्तचाप के लिए पूरक और वैकल्पिक दवाएं

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको पर्याप्त आराम करना चाहिए और तनाव से दूर रहना चाहिए। साथ ही, जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, आपको यह सुनिश्चित करने के लिए अपने भोजन की आदतों पर नियंत्रण रखना चाहिए कि रक्तचाप अधिक न हो।

लहसुन का उपयोग

हम घरेलू उपचार के रूप में कर सकते है यह बहुत ही कारगर घरेलू दवा है  ब्लड प्रेशर और हाई बीपी को नियंत्रित कर सकते हैं। उपयोग विधि-सुबह इसे खली पेट इसका सेवन करें। अन्य फायदे  कब्ज से लेकर गैस तक की समस्या से मिल सकता है  लहसुन को चमत्कारिक गुणों वाला औषधि बताया गया है, जिसके कई फायदे हैं।  

मेथीदाना के दाने

 इससे उच्च रक्तचाप का इलाज होता है।सबसे दूसरा कारगर दवा मेथी का दाना इसे रात भर भिगो कर सुबह इसका सेवन करें इसे आप  पाउडर के रूप में भी ले सकते है सुबह-शाम पानी के साथ लें। इसे प्रतिदिन खाने से लाभ मिलता है। अन्य फायदे  मेथी  ​डायबीटीज के मरीजों  और कलेस्ट्रॉल लेवल ,​वजन कम करने के लिए उपयोगी

 आँवले का  रस  

आँवले का रस  सुबह-शाम लेने से हाई ब्लड प्रेशर कम होगा आप इसे बाजार से ले सकते है इसका आप नियमित रूप से इसका उपयोग करें।कम वजन और उच्च रक्तचाप कम करता है। -शरीर में गर्मी बढ़ जाने पर आंवल सबसे बेहतर उपाय है। आंवले के रस का सेवन या आंवले को किसी भी रूप में खाने पर यह ठंडक प्रदान करता है।  

 चुकंदर का रस 

आप ताजे चुकंदर का जूस निकाल लें इसका उपयोग सुबह शाम नियमित रूप से सेवन करें आपको लाभ अवश्य मिलेगा ,इसमें आपको चुकंदर में आयरन, सोडियम, पोटेशियम, फॉस्फोरस पर्याप्त मात्रा में होते हैं, जिस कारण यह शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है।  चुकंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का काम करता है।  

करेला का रस 

करेला का रस का उपयोग बहुत लाभदायक है। इसका उपयोग खाली पेट सुबह शाम करें आपको लाभ अवश्य मिलेगा उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए  कारगर दवा है ! करेले का जूस ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में भी मदद करता है।

अनार का रस 

अनार  सभी रोगो के लिए कारगर है अनार का जूस पीने से आपको हाई ब्लड प्रेशर कम होगा इसको भी नियमित सेवन करें। “मिलेगा  किसी भी एक घरेलू दवा का उपयोग आप नियमित रूप से करेंगे तभी आपको लाभ मिलेगा और आपको ज्यादा समस्या होने पर आप डॉ की सलह ले ये सभी दवा वैकल्पिक दवा के रूप में है  “

जीवनशैली में ये सभी परिवर्तन निश्चित रूप से आपके हृदय को लाभ पहुंचाएंगे और आपको हृदय संबंधी जटिलताओं से बचाएंगे। इस लेख में, हम उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ सप्लीमेंट्स के बारे में चर्चा करेंगे।

उच्च रक्तचाप के सबसे आम लक्षण हैं:गहरे रंग का मूत्र भारी और अक्सर अनियमित दिल की धड़कन मतली और चक्कर आना सीने में दर्द मूत्र पथ के संक्रमण ये लक्षण अक्सर उच्च रक्तचाप से जुड़े होते हैं।

इसे भी पढ़े 

5 सप्लीमेंट्स हर किसी को पता होना चाहिए

यदि आप अपनी धमनियों में दबाव बढ़ने का कारण जानते हैं, तो कुछ ऐसे सप्लीमेंट्स हैं जिनका आप उपयोग कर सकते हैं। उनमें से एक है करक्यूमिन। अध्ययनों के अनुसार, करक्यूमिन धमनियों में दबाव को कम करने में मदद करता है।

यह एक प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट भी है और संयुक्त राज्य अमेरिका में खाद्य योज्य के रूप में उपयोग किया जाता है। करक्यूमिन कैसे लें सामग्री: एक गिलास गर्म दूध एक चुटकी हल्दी कैसे बनाएं: एक गिलास गर्म दूध में एक चुटकी हल्दी मिलाएं।

अपने शरीर में करक्यूमिन प्राप्त करने के लिए इस मिश्रण को रोजाना पियें। आप एक गिलास गर्म दूध में हल्दी पाउडर की कुछ बूंदों को मिलाकर घर पर ही इस उपाय को बना सकते हैं। इस मिश्रण को आप सुबह शाम भी पी सकते हैं।

निष्कर्ष

जब जानलेवा बीमारियों की बात आती है तो आप बीपी को नजरअंदाज नहीं कर सकते। चूंकि स्ट्रोक जैसी कुछ बीमारियों के लिए बीपी जिम्मेदार होता है, इसलिए अपने बीपी को नियंत्रण में रखना जरूरी है। यह आपके बीपी को नियंत्रण में रखने से संभव है।

आपको केवल नियमित अंतराल पर बीपी रीडिंग करने, स्वस्थ भोजन करने, शारीरिक रूप से सक्रिय रहने, अच्छा आहार बनाए रखने आदि का पालन करने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़े 

Social Share

Leave a Comment

AllEscort